बियरिंग (Bearing):

ITI Fitter 4000+ MCQ’s In Hindi
Download Now👇👇👇

Download Now

बियरिंग एक मशीन तत्व है जो मूरविंग पार्ट्स के बीच संबंधित मोशन को केवल निर्धारित मोशन के लिए बाध्य करता है। उदाहरण के लिए एक बिर्यरिंग कर सकता है:
  • फ्री लीनियर मूवमेंट प्रदान करना, या
  • फिक्स्ड अक्ष के चारों ओर फ्री रोटेशन प्रदान करना

बहुत-सी बियरिंग घर्षण को भी कम करती हैं। बियरिंग्स दो सरफेसों के बीच स्मूथ निम्न-घर्षण मूवमेंट होने देती है बियरिंगों का मोटे तौर पर वर्गीकरण, कार्यक्रिया के प्रकार,
स्वीकृत मोशनों या पार्ट्स पर लगने वाले लोड्स (फोर्सो) की दिशा के अनुसार किया जाता है। सबसे सामान्य बियरिंग प्लेन बियरिंग जिसमें सरफेस रगड़ वाला संपर्क, अक्सर लुब्रिकेंट के साथ, होता है। लगभग सभी जटिल बियरिंग्स सूक्ष्म होती हैं। बियरिंग का एक महत्त्वपूर्ण कार्य घर्षण को कम करना होता है और इस प्रकार घिसावट घटती है और लंबे समय तक उच्च स्पीड पर उपयोग करने में सहायता मिलती है। बियरिंग में घर्षण, उसके आकार, उसके मेटीरियल, फ्लूइड से सरफेसों को दूर रखने और इलेक्ट्रोमेग्नेटिक क्षेत्र के कारण कम होती है। किसी भी बियरिंग में इन विधियों का कम्बीनेशन अपनाया
जा सकता है। उदाहरण के लिए बियरिंग केज को प्लास्टिक से बनाया जा सकता है और इसे रोलरों/बाल्स के द्वारा अलग किया जा सकता है जिससे उनके आकार और फिनिश के कारण फ्रिक्शन कम हो जाती हैं।


बियरिंगों पर लोड (Load on Bearings):

वियरिंगों पर दो प्रकार की लोडिंग होती है – रेडियल और श्रस्ट। लोडस इस पर निर्भर करते हैं कि बिरयरिंग का कहाँ प्रयोग किया गया है। यह पूर्ण रेडियल लोडिंग, पूर्ण श्रस्ट लोडिंग या दोनों का एक कम्बीनेशन हो सकता है। उदाहरण के लिए इलेक्ट्रिक मोटर की बियरिंग केवल रेडियल लोड बियरिंग का सामना करती है। स्टूल में बिरयरिंग (उदाहरण के लिए बार स्टूल) पर श्रस्ट लोड ही पड़ता है। इस पर शुद्ध थ्रस्ट लोड ही पड़ता है और संपूर्ण लोड स्टूल पर बैठे हुए व्यक्ति के भार से आता है। कार
व्हील की बियरिंग्स पर थ्रस्ट और रेडियल लोड्स दोनों ही
पड़ते हैं। रेडियल लोड कार के भार से आता है। श्रेस्ट लोड
कार के मोड़ लेने से पैदा होने वाली ताकतों से आता है।

ITI Fitter Trade Theory quiz


सिद्धांत (Concept):

बियरिंग का बेसिक सरल सिद्धांत है वस्तुओं को घसीटने से बेहतर होता है उन्हें घुमाना। एक कार के व्हील्स बियरिंग्स की तरह कार्य करते हैं। यदि एक कार में व्हीलों के स्थान पर स्क्रीज हों तो उसका रोड पर चलना मुश्किल होगा। यदि कोई वस्तुएँ एक दूसरे के ऊपर स्लाइड करती हैं तो घर्षण मूवमेंट का अवरोध करती है। परंतु जब दो सरफेसें एक दूसरे पर रोल करती हैं तो फिक्शन बहुत कम हो जाती है। स्मूथ धातु बाल्स या रोलर्स और बाल्स को रोल करने के लिए धातु की स्मूथ अंदरुनी और बाहरी सरफेस प्रदान करके बियरिंग घर्षण को कम करती हैं। ये बाल्स या रोलर्स लोड को “सहन” करती हैं और उपकरण को आसानी से घूमने देती है।

ITI Fitter 4000+ MCQ’s In Hindi
Download Now👇👇👇

Download Now


Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.